अग्निपथ योजना के विरोध को लेकर प्रशासन अलर्ट

अग्निपथ योजना के विरोध को लेकर प्रशासन अलर्ट

गाजीपुर। अग्निपथ योजना के विरोध की आग इस जिले में भी न फैले, इसको लेकर प्रशासन पूरी तरह से चौकन्ना हो गया है। सिटी रेलवे स्टेशन सहित जिले के अन्य स्टेशनों के साथ ही प्राइवेट और रोडवेज बस स्टैंड पुलिस छावनी में तब्दील रही। आईजी, कमिश्नर सहित जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने सिटी रेलवे स्टेशन सहित नगर के तमाम इलाकों में चक्रमण कर शांति व्यवस्था का जायजा लेते रहे। इस दौरान जो भी संदिग्ध दिखा, उससे अधिकारियों ने पूछताछ करते हुए उनकी तलाशी भी ली।


मालूम हो कि अग्निपथ योजना के विरोध में बिहार सहित देश के अन्य जनपदों में युवा विरोध स्वरूप ट्रेनों-बसों को आग के हवाले करने करते हुए तोड़-फोड़ की घटना कर रहे हैं। बीते रविवार को जिले में भी युवाओं ने बंजारीपुर रेलवे क्रासिंग के रेल पटरी पर बैठने के साथ ही जमानिया तिराहा से लाठी-डंडा के साथ जुलूस निकालते हुए विरोध प्रदर्शन किया था।एसपी ने प्रदर्शनीकारियों को समझा-बुझाकर शांत कराया था। युवाओं के प्रदर्शन को लेकर घंटों प्रशासन हांफता रहा रहा। कुछ अज्ञात संगठनों द्वारा सोमवार को भारत बंद की अफवाह फैलाई गई थी। इसको लेकर प्रशासन पूरी तरह से गंभीर रहा। सुबह आईजी के सत्यनारायण, कमिश्नर दीपक कुमार एसपी रामबदन सिंह, डीएम मंगला प्रसाद सिंह, एसडीएम सदर प्रतिभा मिश्रा, तहसीलदार अभिषेक कुमार के साथ सिटी रेलवे स्टेशन पर पहुंचे।अधिकारियों के चक्रमण के दौरान आरपीएफ प्रभारी एके राय, जीआरपी प्रभारी अखिलेश मिश्रा सहित भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौजूद रही। इसके बाद अधिकारियों ने रोडवेज के साथ ही तमाम प्राइवेट बस स्टैंडों का निरीक्षण करते हुए शांति व्यवस्था का जायजा लिया। वहां तैनात पुलिस फोर्स को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया।