बलात्कारियों व अपराधियों को संरक्षण देती है भाजपा सरकार : रामकुमार तंवर 

बलात्कारियों व अपराधियों को संरक्षण देती है भाजपा सरकार : रामकुमार तंवर 

नोएडा महानगर अध्यक्ष रामकुमार तंवर के नेतृत्व में पत्रकार वार्ता का आयोजन नोएडा महानगर कांग्रेस कार्यालय पर महानगर अध्यक्ष रामकुमार तंवर व दिनेश शर्मा अध्यक्ष जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा किया गया।

नोएडा महानगर अध्यक्ष रामकुमार तंवर ने कहा कि पूरा प्रदेश अपराध की आग में जल रहा है अपराधी बेखौफ होकर प्रतिदिन अपराधों को अंजाम दे रहे हैं । वर्ष 2023 एनसीआरबी रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश महिलाओं के प्रति अपराधों के मामले में पहले स्थान पर है इसी रिपोर्ट के अनुसार पूरे भारत में होने वाले अपराधों में 15% अपराध उत्तर प्रदेश में होते हैं हालात कितने बदत्तर हो गए हैं इसकी सिर्फ दो बानगी देखिए।

एक प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जहां 2 नवंबर 2023 को आईआईटी बीएचयू की छात्रा का तीन लड़कों द्वारा जबरन गन पॉइंट पर उसकी नग्न अवस्था का वीडियो बनाया गया एवं दुष्कर्म किया गया। जबकी 3 नवंबर को ही कांग्रेस अध्यक्ष अजय राय ने बता दिया था कि इस घटना में भाजपा के लोगों का हाथ है इस पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी गई, 5 नवंबर को सीसीटीवी फुटेज से लड़कों की पहचान कर ली गई, 8 नवंबर को पीड़िता द्वारा भी उनकी पहचान कर ली गई, आरोपित की पुष्टि होने के पश्चात भाजपा द्वारा उन्हें मध्य प्रदेश के चुनाव प्रचार में भेज दिया गया।

ऐसे में सवाल यह उठता है कि आरोपियों की पहचान होने के बाद भी उनको गिरफ्तार करने में 2 महीने क्यों लगे? क्या पांच राज्यों में चुनाव के कारण भाजपा आरोपितों को बचा रही थी? अगर छात्रों और कांग्रेस अध्यक्ष का इतना दबाव न होता तो शायद आरोपित पकड़े भी नहीं जाते। संवेदनहीनता की प्रकाष्ठा है और दुर्भाग्य यह है कि यह घटना भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की है। इस अवसर पर दिनेश शर्मा ने कहा कि एक घटना प्रदेश के मुख्यमंत्री के क्षेत्र गोरखपुर की है जहां विनोद उपाध्याय को सुल्तानपुर में पुलिस द्वारा कथित मुठभेड़ में मार दिया गया यह बात आईने की तरह साफ है की गोरखपुर में रहने वाले विनोद उपाध्याय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पुराने विरोधी रहे हैं।

योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद विनोद उपाध्याय पर शिकंजा बढता गया और क्रमशः उन ईनाम की धनराशि भी मामले को गंभीर दिखने के लिए बढ़ाई गई। यह मुठभेड़ व्यक्तिगत कुंठा और राजनैतिक विद्वेष से प्रेरित है और योगी सरकार का एक जाति विशेष विरोधी चेहरे को उजागर करती है। कांग्रेस पार्टी इस घटना की न्यायिक जांच की मांग करती है।

प्रेस वार्ता में मुख्य रूप से ओबीसी प्रदेश उपाध्यक्ष फिरे सिंह नागर, ओबीसी प्रदेश महासचिव उर्मिला चौधरी, महानगर उपाध्यक्ष हरेंद्र शर्मा, पीसीसी सदस्य रिज़वान चौधरी, पीसीसी सदस्य सोनू प्रधान, कोषाध्यक्ष रामकुमार शर्मा, महासचिव कैप्टन हरलीन बाजवा, नोएडा महानगर महासचिव नरेश झा, ज़िला महासचिव मुकेश शर्मा, रोहित चौहान आदि उपस्थित रहे।