जाम से राहत के लिए उद्योग मार्ग बने नो पार्किंग जोन - सुरेंद्र सिंह नाहटा

जाम से राहत के लिए उद्योग मार्ग बने नो पार्किंग जोन - सुरेंद्र सिंह नाहटा

नोएडा। दिल्ली से नोएडा के पुराने औद्योगिक सेक्टरों को जोड़ने वाले उद्योग मार्ग पर अराजकता का माहौल बना हुआ है। इस मार्ग के दोनों और पुराने औद्योगिक सेक्टर हैं, जिनमें आवाजाही करने वाले हजारों श्रमिकों और उद्यमियों को भारी अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ रहा है।

एमएसएमई इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने नोएडा प्राधिकरण के सीईओ डॉ. लोकेश एम और पुलिस उपायुक्त यातायात को पत्र लिखकर उद्योग मार्ग को नो पार्किंग जोन बनाने की मांग की है। 

एमएसएमई इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह नाहटा का कहना है कि नोएडा प्राधिकरण ने इस मार्ग पर जगह-जगह नो पार्किंग जोन और टो अवे जोन के बोर्ड लगाए गए थे, लेकिन प्राधिकरण और  ट्रैफिक पुलिस की लापरवाही से उद्योग मार्ग के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। उद्योग मार्ग पर कदम-कदम पर वाहनों के शोरूम हैं।

वाहन शोरूम के सामने अव्यवस्थित तरीके से वाहन खड़े होते हैं, जिससे जाम की समस्या बन जाती है। रोजाना लगने वाले जाम से निपटने के लिए उद्योग मार्ग पर संदीप पेपर मिल चौराहा बंद कर यातायात व्यवस्था को सिग्नल फ्री किया गया था, लेकिन शर्मा मार्केट के सामने नो पार्किंग जोन में खड़े वाहनों की वजह से चौराहे के आसपास जाम लगा रहता है। करीब 41 करोड़ रुपये खर्च करके प्राधिकरण ने सेक्टर-1 में पार्क के नीचे भूमिगत पार्किंग का निर्माण कराया है।

27 करोड़ रुपये की लागत से सेक्टर-5 में पार्किंग का निर्माण कराया गया था। प्राधिकरण के प्रशासनिक कार्यालय से चंद कदम की दूरी पर बनी इस पार्किंग के बाहर सडक़ पर खड़े वाहनों की वजह से अक्सर जाम की समस्या बनी रहती है। इन पार्किंग स्थलों का दुरुपयोग हो रहा है। पार्किंग में दिल्ली के न्यू अशोक नगर के निवासी अपने वाहन खड़े कर रहे हैं, क्योंकि वहां की तंग गलियों में पार्किंग की समस्या है। एसासिएश्मन के जिलाध्यक्ष ने  उद्योग मार्ग को नो पार्किंग जोन बनाने की मांग की है। साथ ही, ऑटो और ई-रिक्शा का सही तरीके से संचालन सुनिश्चित कराकर इस मार्ग पर आवाजाही आसान बनाने की मांग की है।