फिज़िक्स वाला एकेडफ्लाई ने विदेशों में पढ़ने के इच्छुक भारतीय विद्यार्थियों के लिए 50 लाख रुपये की छात्रवृत्ति की घोषणा की

फिज़िक्स वाला एकेडफ्लाई ने विदेशों में पढ़ने के इच्छुक भारतीय विद्यार्थियों के लिए 50 लाख रुपये की छात्रवृत्ति की घोषणा की

नई दिल्लीः भारत की अग्रणी एडटेक कंपनी, फिज़िक्स वाला (पीडब्ल्यू) ने अपने नए लॉन्च किए गए स्टडी एब्रॉड अभियान, एकेडफ्लाई के अंतर्गत 50 लाख रुपये की ग्लोबल आईकंस स्कॉलरशिप का पहला संस्करण पेश किया है।

ग्लोबल आईकंस स्कॉलरशिप वो विद्यार्थी प्राप्त कर सकते हैं, जो अमेरिका, यूके, और कैनेडा में 1,000 से ज्यादा अग्रणी अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों से अपनी मास्टर्स डिग्री पूरी करना चाहते हैं। विद्यार्थी 26 मार्च से https://www.acadfly.com पर जाकर इस स्कॉलरशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं।

एकेडफ्लाई छात्रवृत्ति पहले पीडब्ल्यू यूनिगो के नाम से जानी जाती थी। इसका उद्देश्य विदेशों में पढ़ने के इच्छुक विद्यार्थियों को वन-स्टॉप समाधान प्रदान करना है। एकेडफ्लाई से विद्यार्थियों को अपने शिक्षा के सफर में विश्वास के साथ निर्णय लेने में मदद मिलेगी। उन्हें विश्वविद्यालय को शॉर्टलिस्ट करने, प्रवेश की काउंसलिंग प्राप्त करने, स्टूडेंट लोन और वीज़ा प्राप्त करने में मदद मिलेगी, और प्रि-डिपार्चर सहायता, आवास, फॉरेक्स आदि सुविधाएं भी प्राप्त होंगी।

फिज़िक्स वाला के सीनियर वाईस प्रेसिडेंट, मयंक शर्मा ने कहा, “एकेडफ्लाई के साथ हम विद्यार्थियों को संपूर्ण सहायता व मार्गदर्शन प्रदान करना चाहते हैं, ताकि उन्हें विदेशों में अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक सहयोग की कमी न हो। उपस्थिति की ऊँची लागत अक्सर विद्यार्थियों द्वारा विदेशों में शिक्षा प्राप्त करने के मार्ग का सबसे बड़ा अवरोध बन जाती है। ग्लोबल आईकंस स्कॉलरशिप द्वारा हमने इस वित्तीय भार को कम करने का प्रयास किया है। वैश्विक शिक्षा प्राप्त करने में मदद देकर एकेडफ्लाई द्वारा भारतीय विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की नींव स्थापित हो रही है।”

इसके अलावा, जनवरी में फिज़िक्स वाला (पीडब्ल्यू) ने दुनिया के सबसे बड़े प्राईवेट एजुकेशनल एसेसमेंट, रिसर्च एवं मेज़रमेंट संगठन और अमेरिका स्थित ईटीएस की सब्सिडियरी ईटीएस इंडिया के साथ एक मैमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग पर हस्ताक्षर भी किए ताकि विश्व के अग्रणी विश्वविद्यालयों में पढ़ने के इच्छुक विद्यार्थियों को मार्गदर्शन व सहयोग मिल सके, और वो जीआरई एवं टीओईएफएल आदि परीक्षाओं की तैयारी कर सकें।