छः अध्यापक, छः बच्चे, बीएसए साहब एक नजर इधर भी

छः अध्यापक, छः बच्चे, बीएसए साहब एक नजर इधर भी

गाजीपुर, मरदह विकासखंड अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय पलिया में प्रधानाध्यापिका और अध्यापक मनमाने ढंग से चला रहे है प्राथमिक विद्यालय को ।जहां विद्यालय खुलने का समय सुबह 7:30 बजे का अंकित है लेकिन गुरुजी के अनुपस्थिति का बच्चों में भी खासा असर देखने को मिला आलम यह रहा कि विद्यालय पर तैनात 6 कर्मचारियों में से मात्र तीन ही मौके पर उपस्थित मिले आश्चर्यजनक बात यह रही कि खुद प्रधानाध्यापिका अनुपस्थित रही। देखा जाए तो सरकार की मंशा रही है कि जगह-जगह विद्यालय और सभी को शिक्षा मिल सके। लेकिन प्राथमिक विद्यालयों पर तैनात अध्यापकों की लापरवाही के चलते सरकार की मंशा पर पानी फेरने का काम किया जा रहा है। शायद यही वजह है कि लोग अपने बच्चों को सरकारी विद्यालयों की बजाए प्राइवेट विद्यालयों में शिक्षा दीक्षा के लिए भेज रहे हैं खुद प्राथमिक विद्यालयों के अध्यापक भी अपने बच्चों को प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षा प्राप्त करने के लिए नहीं भेजते हैं

 पी एन आई न्यूज़ की टीम मरदह क्षेत्र के पलिया ग्राम सभा में बने प्राथमिक विद्यालय पर 8:20 बजे पहुंची तो वहां पर प्रधानाध्यापिका सरिता, सहायक अध्यापक अनिल कुमार यादव और शिक्षामित्र राजेश सिंह यादव मौके से नदारद मिले । वही इस विद्यालय पर सहायक अध्यापिका सेजल कुशवाहा, शिक्षामित्र मंजू यादव और रेखा मौजूद मिली। वही विद्यालय परिसर मे गंदगी का भी भरमार दिखा। इस विद्यालय पर एमडीएम बनाने के लिए 3 रसोइयों की तैनाती है लेकिन हास्यास्पद तो यह रहा की जहां इस विद्यालय को 6 अध्यापकों की तैनाती है वही मात्र है 6 बच्चे ही विद्यालय में शिक्षा प्राप्त करने के लिए मौजूद दिखे। जबकि 60 छात्र और 67 छात्राओं का उपस्थिति रजिस्टर में नाम दर्ज है

पूछने पर एक अध्यापिका ने बताया कि बच्चे आ नहीं रहे जबकि बीते 16 तारीख से प्रदेश मे विद्यालय प्रारंभ हो गया है। इस मामले पर प्रभारी खंड शिक्षा अधिकारी ओम प्रकाश दुबे को जब अवगत कराया गया तो उन्होंने बताया कि इसकी जानकारी हमें नहीं थी और जानकारी हुई है बहुत जल्द जांच कर इन पर कार्यवाही की जाएगी