टैली प्राइम से उपभोक्ताओं को मिली डायरेक्ट ई-इनवॉइस बनाने की सुविधा

टैली प्राइम से उपभोक्ताओं को मिली डायरेक्ट ई-इनवॉइस बनाने की सुविधा

नोएडा। एकाउंटिंग की दुनिया में टैली जाना पहचाना नाम है इस बार टैली सोल्यूशंस "टैली प्राइम" सॉफ्टवेयर लेकर आया है जिसमें उपभोक्ताओं को टैली से डायरेक्ट ई-इनवॉइस बनाने में आसानी होगी।

टैली सॉल्यूशंस में मैनेजर मयंक भारद्वाज ने बताया कि हम पिछले 36 वर्षों से एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर व्यवसाय में हैं। हमारे पास 20,00000 से अधिक ग्राहक है। दुनिया भर के 100 से अधिक देशों में हमारी उपस्थिति है। हम आवश्यकता के अनुसार समय-समय पर अपने उत्पाद को अपग्रेड करके एमएसएमई की मदद कर रहे हैं, जैसे 2005 में वैट और 2017 में जीएसटी, जैसा कि हम जानते हैं कि जिन व्यवसायम का टर्नओवर 10 करोड़ से अधिक है उनके लिए B2B ई-इनवॉइस बनाना अनिवार्य है। हमने अपने उपभोक्ताओं के लिए अपने नए सॉफ्टवेयर टैली प्राइम के माध्यम से लोगों को टैली से डायरेक्ट ई-इनवॉइस बनाना आसान कर दिया।

अब यह जनवरी 2023 तक 5 करोड़ से अधिक के टर्नओवर वाले व्यवसायों पर लागू होने की उम्मीद है और हम ज्ञान साझा करने वाले सत्र करके एमएसएमई की मदद कर रहे हैं।
पिछले साल एडिट लॉग भी 1 अप्रैल 2022 से लागू होने की उम्मीद थी जिसे 1 साल के लिए टाल दिया गया था और 01 अप्रैल 2023 से लागू होने की उम्मीद है और हमारे पास एडिट लॉग के लिए भी रेडी प्रोडक्ट है।

उन्होंने बताया कि अमेजॉन वेब सर्वर के सहयोग से अपने क्लाउड समाधान के साथ आए हैं और अपने ग्राहकों के लिए रेडीमेड उपयोगकर्ता आधारित समाधान लॉन्च किया है। हम भविष्य में भी अधिक से अधिक व्यवसायों की सेवा करने के लिए तत्पर हैं।