सुपरटेक बिल्डर द्वारा एनसीएलटी आदेश के बावजूद जार सोसायटी मे जबरन पार्किंग बेचने का विरोध 

सुपरटेक बिल्डर द्वारा एनसीएलटी आदेश के बावजूद जार सोसायटी मे जबरन पार्किंग बेचने का विरोध 

 ग्रेटर नोएडा। सेक्टर ओमिक्रांन-1 के जार सुपरटेक निवासी सुपरटेक बिल्डर और उसकी मैनिंटेनेंस टीम के द्वारा एनसीएलटी आदेश के बावजूद बिना किसी कोर्ट की वैधानिक कार्रवाई के अवैध रूप से खाली पड़ी पार्किंग को बेचने का जबरन दबाव बना रहा है। मालूम हो कि इस सोसायटी पर भी एनसीएलटी द्वारा आईआरपी गठित की गई है और सुपरटेक मैनेजमेंट सस्पेंडेड है और बिना आइआरपी के आदेश के किसी भी तरह की कोई कार्रवाई सुपरटेक नही कर सकता है। परंतु बिल्डर और उसकी टीम के द्वारा सोसाइटी निवासियों को जबरन पार्किंग को खरीदने के लिए दबाव बनाया जा रहा हैं। पार्किंग ना खरीदने पर धमकिया दी जा रही है लोगो मे भारी रोष है । जबकि बिल्डर द्वारा अवैध निर्माण किया गया है और सोसायटी निवासियों के फ्लैटों की रजिस्ट्री भी नही हो पा रही हैं। पीड़ित श्रीमती अंबिका, श्री आशुतोष, किशन और अन्य  को इसी तरह से परेशान किया जा रहा है।

सोसायटी के महासचिव वरुण वर्मा ने बिल्डर के इस व्यवहार को बिलकुल अनुचित बताया और कहा कि जबतक  सोसायटी की रजिस्ट्री नही शुरू होती तब तक कोई निवासी पार्किंग नही खरीदेगा।
पहले से ही सोसाइटी निवासी रजिस्ट्री ना होने से परेशान है और उस पर इस तरीके से लोगो को परेशान करने का और पैसे उगाही करने का तरीका अपनाया जा रहा है। निवासियों की तरफ से ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण से आग्रह है की तुरंत सुपरटेक बिल्डर को नोटिस जारी किया जाए और निवासियों को इस डर के माहौल से निजात दिलवाई जाए। अगर सुपरटेक इस तरह से उत्पीड़न बंद नही करता है तो मजबूरन आंदोलन करना पड़ेगा।