संस्कार केंद्र स्कूल सरफाबाद नोएडा ने जीती सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी

संस्कार केंद्र स्कूल सरफाबाद नोएडा ने जीती सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी

नोएडा लोक मंच द्वारा आयोजित "पहला कदम "सांस्कृतिक प्रकल्प के अंतर्गत" सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी" में भाषण एवं वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। आज की प्रतियोगिता में संस्कार केंद्र सरफाबाद सेक्टर -73 नोएडा ने  "सरिता मिश्र मेमोरियल रोलिंग ट्रॉफी" मैं बाजी मारी। प्रतियोगिता में कुल 30 बच्चों ने प्रतिभाग किया जिसमें प्रथम वर्ग में कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के 14 बच्चे एवं द्वितीय वर्ग में कक्षा 6 से कक्षा 8 तक के 16 बच्चों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता की शुरुआत गायत्री मंत्र से की गई।

 प्रथम वर्ग में भाषण प्रतियोगिता हुई जिसके विषय इस प्रकार थे। 1-मेरे सपनों का विद्यालय 2-मेरी दिनचर्या 
3-मेरे जीवन का आदर्श 
4-मेरे जीवन का लक्ष्य  

एवं द्वितीय वर्ग में वाद - विवाद की प्रतियोगिता हुई जिसके विषय इस प्रकार थे।
 1-महिला शिक्षा वरदान या अभिशाप 2-जीवन में मोबाइल वरदान या अभिशाप
 प्रथम वर्ग में पूजा ने प्रथम , प्रीति ने द्वितीय ,पलक एवं आयुष ने तृतीय स्थान में प्राप्त किया

वहीं द्वितीय वर्ग में प्रथम स्थान में खुशी, द्वितीय स्थान में हर्षिता  शालू एवं राखी ने तृतीय स्थान प्राप्त किया ।

आज निर्णायक मंडल में समाज के प्रबुद्धजनों ने निर्णायक की भूमिका निभाई, जिसमें रुपेश गोस्वामी, के के दीक्षित, महिपाल सिंह, श्रीमती विमलेश शर्मा, रेनू शर्मा, रचना यादव, नीलम बिष्ट, सुंडली, मीता वरुण, सुनीता खटाना, लायन उमेश कुमार एवं माखनलाल थे।

कार्यक्रम में कई गणमान्य अतिथियों ने भी शिरकत की जिसमें मुख्यतः पी के मिश्र गणेश शंकर त्रिपाठी, महेश सक्सेना, विभा बंसल, लीका सक्सेना, राजेश्वरी थ्यागराजन, इंद्रा चौधर, पुष्पा सिंह, मीना, प्रदीप वोहरा, श्वेता त्यागी, महेंद्र अवाना, आर एन श्रीवास्तव, मुकुल वाजपेई, अनीता सक्सेना, गजानन माली एव कंचन श्रीवास्तव आदि उपस्थित थे।

नोएडा लोक मंच की कोषाध्यक्ष विभा बंसल ने  सभी विद्यालयों का एवं उनके शिक्षकों का आभार व्यक्त किया एवं सभी निर्णायक मंडल के सदस्यों का एवं पी के मिश्र का तहे दिल से शुक्रिया अदा किया कि उन्होंने नोएडा लोकमंच के साथ मिलकर यह प्रतियोगिता का आयोजन किया। अंत में पारितोषिक का वितरण हुआ एवं राष्ट्रगान के साथ यह प्रतियोगिता का समापन हुआ।