श्रीकांत त्यागी पुलिस की गिरफ्त में, गिरफ्तार करने वाली टीम को 1 लाख का ईनाम

श्रीकांत त्यागी पुलिस की गिरफ्त में, गिरफ्तार करने  वाली टीम को 1 लाख का ईनाम

नोएडा: सैक्टर 108 स्थित कमिश्नर के कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में गौतमबुध नगर पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने पत्रकारों को बताया कि श्रीकांत त्यागी ने जो कृत्य किया है उसके लिए पुलिस की 8 टीमें निरंतर कार्य कर रही थीl यह घटना उस समय घटी जब गौतम बुध नगर पुलिस का एक विशेष कार्यक्रम चल रहा था। इस मामले की मॉनिटरिंग के लिए आईपीएस अधिकारी अंकिता शर्मा को लगाया गया। उन्होंने सर्विलांस और आईटी की टीम से तमाम सबूत इकट्ठा किए और घटना स्थल पर जाकर पीड़िता को सुनाl पीड़िता ने जो शिकायत दी उसके आधार पर मामला पंजीकृत किया गया और तफ्तीश आगे बढ़ी।

उन्होने बताया अपनी बदसलूकी करने का वीडियो वायरल होने के बाद श्रीकांत त्यागी सबसे पहले एकसहयोगी के साथ गाड़ी से एयरपोर्ट की तरफ गया विदेश जाने की फिराक में था लेकिन वीडियो अधिकवायरल होने की वजह से वह बाहर जाने में कामयाब नहीं हो सका इसके बाद उसने अपना रुख गाजियाबादकी तरफ किया फिर मेरठ पहुंचा मेरठ से निकलने के बाद अगली रात उसने हरिद्वार होते हुए ऋषिकेश में भी एक रात बिताई और वहां से सहारनपुर के रास्ते बागपत भी गया त्यागी कितना शातिर है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस फरारी के दौरान इसने आधा दर्जन गाड़ियों को बदला ताकि इसकी पहचान ना हो सके।

गौतमबुधनगर पुलिस की एक विशेष टीम लगातार इसके पीछे थी लेकिन ये अपनी लोकेशंस बदल रहा थाकाफी मशक्कत करने के बाद मेरठ के पास से आज मंगलवार को श्रीकांत को गिरफ्तार कर लिया गया एकसवाल के जवाब में कमीश्नर आलोक सिंह ने बताया कि जो पास विधायक को दिए जाते हैं इसकी गाड़ी परलगाने के लिए ये पास स्वामी प्रसाद मौर्य ने उपलब्ध कराया है l पुलिस सभी तथ्यों की जांच कर रही है किसीको बख्शा नहीं जाएगा पुलिस की टीम ने श्रीकांत त्यागी को कोर्ट में पेश किया यहां से इसे रिमांड पर सौंप दिया गया इस टीम को उत्तर प्रदेश के पुलिस प्रमुख ने ₹200000 रुपए के इनाम से नवाजने की घोषणा की है।

प्रेसवार्ता के दौरान जब पत्रकारों ने पूछा कि क्या श्रीकांत त्यागी ने किसी बड़े राजनेता के माध्यम से सरेंडर किया है ? तो कमिश्नर इस सवाल को टाल गए हैं l कमिश्नर ने कहा कि इस तरह के तथ्य बेमानी है हमारी टीम निरंतर उसके पीछे थी और यह टीम की सफलता है किसी भी राजनीतिक दबाव में पुलिस ने कोई सरेंडर नहीं लिया है साथ ही उन्होंने कहा की जनता के बीच भय का माहौल ना रहे इसलिए गौतम बुध नगर पुलिस महिलाओं और बच्चों के प्रति होने वाले अपराध को लेकर सजग है ये मै सुनिश्चित करता रहा हूं आप लोगों के माध्यम से।